Safar Song Lyrics | सफर – Arijit Singh Feat. Shah Rukh Khan (Jab Harry Met Sejal)

Safar Song Lyrics from the movie Jab Harry Met Sejal (2017) – The song is sung by artist Arijit Singh and Pritam and lyrics penned by Irshad Kamil . The music of this song is also composed by Pritam . It is picturised on Anushka Sharma and superstar Shah Rukh Khan . The Jab Harry Met Sejal movie is directed by Imtiaz Ali and produced by Gauri Khan .

Song Title – Safar
Movie – Jab Harry Met Sejal
Singers – Arijit Singh, Pritam
Lyricist – Irshad Kamil
Music Director – Pritam
Movie Directed By – Imtiaz Ali
Music Label – Sony Music
Movie Release Date – 4th Augusr 2017

Safar Lyrics – English Font

Ab Na Mujhko Yaad Beeta
Main Toh Lamhon Mein Jeeta
Chala Ja Raha Hoon
Main Kahaan Pe Ja Raha Hoon…
Kahaan Hoon?

Iss Yaqeen Se Main Yahan Hoon
Ki Zamana Yeh Bhala Hai
Aur Jo Raah Mein Mila Hai
Thodi Door Jo Chala Hai
Woh Bhi Aadmi Bhala Tha
Pata Tha…
Zara Bas Khafa Tha
Woh Bhatka Sa Raahi Mere Gaanv Ka Hi
Woh Rasta Puraana Jisey Yaad Aana
Zaroori Tha Lekin Jo Roya Mere Bin
Wo Ek Mera Ghar Tha
Puraana Sa Darr Tha
Magar Ab Na Main Apne Ghar Ka Raha
Safar Ka Hi Tha Main Safar Ka Raha

Idhar Ka Hi Hoon Na Udhar Ka Raha
Safar Ka Hi Tha Main Safar Ka Raha…
Idhar Ka Hi Hoon Na Udhar Ka Raha
Safar Ka Hi Tha Main Safar Ka Raha…

 

Main Raha… O O…
Main Raha… Wo O…
Main Raha…

Meel Pattharon Se Meri Dosti Hai
Chaal Meri Kya Hai Raah Jaanti Hai
Jaane Rozana… Zamana Wohi Rozana

Shehar Shehar Fursaton Ko Bechta Hoon
Khaali Haath Jaata Khaali Laut’Ta Hoon
Aise Rozana.. Rozana Khud Se Begana…

Jabse Gaanv Se Main Shehar Hua
Itna Kadva Ho Gaya Ki Zehar Hua
Main Toh Rozana
Na Chaaha Tha Yeh Ho Jaana Maine

Ye Umrr, Waqt, Raasta.. Guzarta Raha
Safar Ka Hi Tha Main Safar Ka Raha

Idhar Ka Hi Hoon Na Udhar Ka Raha
Safar Ka Hi Tha Main Safar Ka Raha….
Idhar Ka Hi Hoon Na Udhar Ka Raha
Safar Ka Hi Tha Main Safar Ka Raha….

Main Raha.. Oo..
Main Raha.. Wo..

Main Raha…

Safar Ka Hi Tha Main Safar Ka Raha

सफर – Hindi Font

अब न मुझको याद बीता
मैं तो लम्हों में जीता
चला जा रहा हूँ
मैं कहाँ पे जा रहा हूँ …
कहाँ हूँ ?

इस यक़ीन से मैं यहाँ हूँ
की ज़माना ये भला है
और जो राह में मिला है
थोड़ी दूर जो चला है
वो भी आदमी भला था
पता था …
ज़रा bas खफा था
वो भटका सा रही मेरे गाँव का ही
वो रास्ता पुराना जिसे याद आना
ज़रूरी था लेकिन जो रोया मेरे बिन
वो एक मेरा घर था
पुराना सा डर था
मगर अब न मैं अपने घर का रहा
सफर का ही था मैं सफर का रहा

इधर का ही हूँ न उधर का रहा
सफर का ही था मैं सफर का रहा …
Idhar ka hi hoon na udhar ka raha
Safar ka hi tha main safar ka raha…

 

मैं रहा … o o…
मैं रहा … wo o…
मैं रहा …

मील पत्थरों से मेरी दोस्ती है
चाल मेरी क्या है राह जानती है
जाने रोज़ाना … ज़माना वही रोज़ाना

शहर शहर फुर्सतों को बेचता हूँ
खाली हाथ जाता खाली लौट ’ता हूँ
ऐसे रोज़ाना .. रोज़ाना खुद से बेगाना …

जबसे गाँव से मैं शहर हुआ
इतना कड़वा हो गया की ज़हर हुआ
मैं तोह रोज़ाना
ना चाहा था ये हो जाना मैंने

ये उम्र , वक़्त , रास्ता .. गुज़रता रहा
सफर का ही था मैं सफर का रहा

इधर का ही हूँ न उधर का रहा
सफर का ही था मैं सफर का रहा ….
इधर का ही हूँ न उधर का रहा
सफर का ही था मैं सफर का रहा ….

मैं रहा .. oo..
मैं रहा .. wo..

मैं रहा …

सफर का ही था मैं सफर का रहा

You May Also Like

About the Author: LyricsManiya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *