Jeene Bhi De Duniya Humein Song Lyrics | जीने भी दे दुनिया हमें – Star Plus TV’s New Serial Drama “Dil Sambhal Jaa Zara”

Jeene Bhi De Duniya Humein is the new song from Star Plus TV’s New Serial Drama “Dil Sambhal Jaa Zara” which is sung by Yasser Desai and is picturised on Sanjay Kapoor as Anant Mathur, Smriti Kalra as Ahana Raichand and Niki Aneja Walia . This beautiful song is written by Shakeel Azmi and music is composed by Harish Sagane.

Song Title – Jeene Bhi De Duniya Humein
Singer – Yasser Desai
Lyricist – Shakeel Azmi
Music Composer – Harish Sagane

Jeene Bhi De Duniya Humein Lyrics – English Font

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Lagaa
Ik Baar Toh Karte Hain Sab
Koi Haseen Khataa
Warna Koi Kaise Bhalaa
Chaahe Kisiko Bepanah
Aye Zindagi Tu Hi Bataa
Kyun Ishq Hai Gunaah

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Lagaa
Ik Baar Toh Karte Hain Sab
Koi Haseen Khataa

Khud Se Hi Karke Guftgu
Koi Kaise Jeeye
Ishq Toh Laazmi Saa Hai
Zindagi Ke Liye…….
Khud Se Hi Karke Guftgu
Koi Kaise Jeeye
Ishq Toh Laazmi Saa Hai
Zindagi Ke Liye…….

Dil Kya Kare
Dil Ko Agar Acha Lage Koi
Jhoota Sahi
Dil Ko Magar Sacha Lage Koi

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Lagaa
Ik Baar Toh Karte Hain Sab
Koi Haseen Khataa
Warna Koi Kaise Bhalaa
Chaahe Kisiko Bepanah
Aye Zindagi Tu Hi Bataa
Kyun Ishq Hai Gunaah

Dil Ko Bhi Udne Ke Liye
Aasmaan Chahiye
Khulti Ho Jinme Khidkiya
Wo Makaan Chahiye……..
Dil Ko Bhi Udne Ke Liye
Aasmaan Chahiye
Khulti Ho Jinme Khidkiya
Wo Makaan Chahiye……..

Darwaze Se Nikle Zaraa
Bahar Ko Rehguzar
Har Mod Pe Jo Saath Ho
Aisa Ho Humsafar

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Lagaa
Ik Baar Toh Karte Hain Sab
Koi Haseen Khataa
Warna Koi Kaise Bhalaa
Chaahe Kisiko Bepanah
Aye Zindagi Tu Hi Bataa
Kyun Ishq Hai Gunaah

जीने भी दे – Hindi Font

जीने भी दे दुनिया हमें
इलज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं सब
कोई हसीं खता
वर्ण कोई कैसे भला
चाहे किसीको बेपनाह
ऐ ज़िन्दगी तू ही बता
क्यों इश्क़ है गुनाह

जीने भी दे दुनिया हमें
इलज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं सब
कोई हसीं खता

खुद से ही करके गुफ्तगू
कोई कैसे जीए
इश्क़ तो लाज़मी सा है
ज़िन्दगी के लिए …….
खुद से ही करके गुफ्तगू
कोई कैसे जीए
इश्क़ तो लाज़मी सा है
ज़िन्दगी के लिए …….

दिल क्या करे
दिल को अगर अच्छा लगे कोई
झूठा सही
दिल को मगर सच्चा लगे कोई

जीने भी दे दुनिया हमें
इलज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं सब
कोई हसीं खता
वर्ण कोई कैसे भला
चाहे किसीको बेपनाह
ऐ ज़िन्दगी तू ही बता
क्यों इश्क़ है गुनाह

दिल को भी उड़ने के लिए
आसमान चाहिए
खुलती हो जिनमे खिड़किया
वो मकान चाहिए ……..
दिल को भी उड़ने के लिए
आसमान चाहिए
खुलती हो जिनमे खिड़किया
वो मकान चाहिए ……..

दरवाज़े से निकले ज़रा
बहार को रहगुज़र
हर मोड़ पे जो साथ हो
ऐसा हो हमसफ़र

जीने भी दे दुनिया हमें
इलज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं सब
कोई हसीं खता
वर्ण कोई कैसे भला
चाहे किसीको बेपनाह
ऐ ज़िन्दगी तू ही बता
क्यों इश्क़ है गुनाह

You May Also Like

About the Author: LyricsManiya

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *